Followers

Showing posts with label Faridabad Police. Show all posts

ज्वेलर्स के मालिक को जान से मारने की धमकी देकर 10 लाख रुपए की फिरोती मांगने वाला सतीश गिरफ्तार

Satish-arrested-for-demanding-ransom-of-Rs-10-lakh

डीसीपी क्राइम मुकेश मल्होत्रा के द्वारा शहर में अपराध पर अंकुश लगाने के लिए अपराधिक गतिविधियों में संलिप्त आरोपियों की धर-पकड़ के दिए गए निर्देश पर कार्रवाई करते हुए क्राइम ब्रांच सेक्टर 17 प्रभारी अशोक कुमार की टीम ने फिरोती मांगने वाले आरोपी को गिरफ्तार किया है। पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी सतीश मूल रुप से बिहार के चंपारण जिले के गांव पठहोली का तथा वर्तमान में गुरुग्राम के सेक्टर-5 की शीतला कॉलोनी में किराए पर रहता है। 

आरोपी ने 15 जुलाई को ईशानी ज्वेलर्स के मालिक को जान से मारने की धमकी देकर 10 लाख रुपए की फिरोती मांगी थी। जिसकी सूचना ईशानी ज्वेलर्स के मालिक ने थाना सराय ख्वाजा में सूचना दी थी। जिसपर तुरंत मुकदमा दर्ज कर आरोपी की तलाश शुरु कर दी थी। क्राइम ब्रांच टीम को अपने सूत्रों से आरोपी का गुरुग्राम का पता लगा जिसपर आरोपी को गुरुग्राम के सैक्टर-5 के एरिया से काबू किया है। आरोपी को पूछताछ के लिए अदालत में पेश कर 6 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया।

आरोपी से पूछताछ में सामने आया कि आरोपी अपने संतोष व अन्य साथियों के साथ मिलकर लोगों फिरोती, ठगी करने की वारदतो को अंजाम देता है। आरोपी ने अब तक बैंक के 20 खातों में लगभग अपने दोस्तों के साथ मिलकर 500 लेनदेन किए है। आरोपी का साथी संतोष अपने गांव जोकटिया से ही ऑपरेट करता है। आरोपी संतोष पहले भी कई बार फिरोती व ठगी के मामलों में जेल जा चुका है। आरोपी को पकडने के लिए 2 बार आरोपी के गांव जोकटिया बिहार में रेड की गई लेकिल आरोपी फरार हो गया। आरोपी सतीश से वारदात में प्रयोग 2 फोन व चार सीमकार्ड बरामद हुए है।

आरोपी संतोष पर बिहार में पहले 2 मुकदमें ठगी और योजना के तहत फॉर्ड करने के मामले दर्ज है। आरोपी दोनों मामलो में फरार चल रहा है। आरोपी की तलाश जारी है जल्द गिरफ्तार किया जाएगा। आरोपी को पूछताछ के बाद अदालत में पेश कर जेल भेज दिया गया है।

बंदूक की नोक पर नाबालिग से कई बार बलात्कार करने वाले आरोपी नदीम को क्राइम ब्रांच ने दबोचा

crime-branch-arrested-accused-nadeem

फरीदाबाद- डीसीपी क्राइम मुकेश मल्होत्रा ने शहर में अपराध पर अंकुश लगाने के लिए अपराधिक मामलों में संलिप्त आरोपियों की धर-पकड़ के दिए गए निर्देश पर कार्रवाई करते हुए क्राइम ब्रांच सेक्टर-56 प्रभारी राकेश कुमार की टीम ने देसी कट्टे से डराकर दुष्कर्म करने वाले आरोपी को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि आरोपी फरजाद उर्फ नदीम फरीदाबाद के गांव फतेहपुर का रहने वाला है। आरोपी नाबालिग लडकी के पडोस में रहता है। पीडित लडकी के साथ पहले देसी कट्टे के दम पर कई बार दुषकर्म कर चुका है। आरोपी नाबालिंग लडकी को 03 जुलाई को कट्टे से डराकर अपने साथ भगाकर ले गया था। जिसकी सूचना पीडित लडकी के परिजनों ने थाना धौज में दी। जिसपर थाना पुलिस ने तुरंत मुकदमा दर्ज कर लडकी की तलाश शुरु कर दी। 

मामले की कार्रवाई क्राइम ब्रांच सेक्टर-56 को मिली जिसपर आरोपी की सूचना असम की मिली लेकिन रेड करने पर आरोपी वहां से फरार हो गया था। आरोपी की अब उत्तर प्रदेश के वाराणसी होने की सूचना मिली जिसपर तुरंत कार्रवाई करते हुए क्राइम ब्रांच इंचार्ज ने PSI कर्मबीर LSI सुमन,HC यूनुस खान, सिपाही दीपेंद्र की टीम बनाई। जिसने रेड कर आरोपी को वाराणसी से गिरफ्तार कर नाबालिंग लडकी को बरामद कर फरीदाबाद लाया गया। आरोपी से मौके पर तलाशी के दौरान देसी कट्टा व 3 जिन्दा रोंद बरामद हुए थे। लडकी के माननीय अदालत में ब्यान दर्ज कराए गए।

आरोपी को अदालत में पेश कर मामले में पूछताछ के लिए 2 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया।

आरोपी से पूछताछ में सामने आया कि वह टैक्सी गाडी चलाता है। आरोपी लडकी के पडोस में ही रहता है। आरोपी ने लडकी को दसी कट्टे का भय दिखाकर उसके साथ कई बार दुषकर्म करने की वरदात को अंजाम दिया है। आरोपी लडकी को कट्टे से डराकर अपनी स्विफ्ट कार में भगा कर ले गया तथा गाडी को दिल्ली में छोड दिया ट्रेन पकड़ कर वाराणसी ले आया। आरोपी से वारदात में प्रयोग गाडी को दिल्ली से बरामद कर लिया गया है।आरोपी को पूछताछ के बाद अदालत में पेश कर जेल भेज दिया गया है।


350 रुपये के लिए हुआ था 20 वर्षीय अर्जुन का मर्डर, मुख्य आरोपी गिरफ्तार

crime-branch-arrested-main-accused-in-arjun-murder-case

फरीदाबाद- 24 जुलाई को किसी ने अर्जुन की हत्या कर लाश को आगरा नहर में फैंक दिया  था। मामले में संज्ञान लेते हुए पुलिस आयुक्त विकास कुमार अरोड़ा डीसीपी क्राइम श्री नरेन्द्र कादयान ने सभी क्राइम ब्रांचों को तुरंत कार्रवाई के दिए गए निर्देश पर कार्रवाई करते हुए क्राइम ब्रांच सेक्टर 65 प्रभारी ब्रह्म प्रकाश की टीम ने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। 

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि गिरफ्तार मुख्य आरोपी बदलू बल्लबगढ़ की शिव कॉलोनी का रहने वाला है। आरोपी शादियों में बैंड बाजा बजाने का काम करता है मृतक अर्जुन भी आरोपी के साथ ढोल बजाता था । क्राइम ब्रांच टीम ने सूत्रों से मिली सुचना के आधार पर आरोपी को सीही गांव तिगांव रोड़ से गिरफ्तार किया है। 

आरोपी से पूछताछ में सामने आया कि मृतक अर्जुन उसके पास दिहाड़ी के पैसे लेने के लिए आया था। जिसके साथ किसी बात को लेकर आपस में झगडा हो गया है। जिसमें आरोपी ने अपने घरवालों के साथ मिलकर अर्जुन की हत्या कर दी और आगरा कैनाल के पास झाडियों में लाश को फेंक दिया था। 

मामले में गहनता से पूछताछ के लिए अदालत में पेश कर पुलिस रिमांड पर लिया जाएगा। फरार अन्य आरोपियो को पकडने के लिए क्राइम ब्रांच टीम लगातार रेड कर रही है जल्द अन्य आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा।

घर में घुसकर चोरी करने वाले चोर को तिगांव पुलिस ने धर दबोचा

tigaon-police-arrested-1-accused

फरीदाबाद- डीसीपी बल्लबगढ़ कुशल सिंह के द्वारा अपराध में संलिप्त आरोपियों की धर-पकड़ के दिए गए दिशा निर्देश पर कार्रवाई करते हुए थाना तिगांव प्रबंधक अशोक कुमार की टीम ने घर में चोरी करने वाले आरोपी अंशु को बटनदार चाकू सहित गिरफ्तार किया है। 

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले के गांव सुरीर का रहने वाला है तथा वर्तमान में बल्लबगढ़ की फ्रेंस कॉलोनी में रहता है। आरोपी को ने अपने सूत्रों से प्राप्त सूचना के आधार पर बटनदार चाकू सहित सदपुरा मोड़ से गिरफ्तार किया है। आरोपी के खिलाफ थाना तिगांव में अवैध हथियार की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।  

पूछताछ में सामने आया कि आरोपी ने 14 जुलाई को थाना तिगांव क्षेत्र में स्थित एक घर में चोरी की घटना को अंजाम दिया था। जिसमें पूछताछ के लिए आरोपी को अदालत में पेश कर 1 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया। जिसमें आरोपी से सोने के गले सेट, छोटा सेट सोने, गले की चैन,2 कंगन,2 जोड़ी झुमके,2 नाक की बाली, सोने का सूई धागे, मंगलसूत्र, 5 अंगूठी तथा चांदी के टाप्स, 4 जोड़ी पायल, तागड़ी व कुंडल, व चांदी की लक्ष्मण झूला बरामद कि गई। आरोपी ने पुलिस रिमांड के दौरान पिछले एक महिने में 3 चोरियों करने के संबंध में बताया। जिस पर पुलिस ने आरोपी को 2 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया है। आरोपी से पलवल के चोरी के मुकदमों में 2 जोडी पायल, 3 जोडी चुटकी व 3 मोबाईल फोन बरामद हुए है।


महंगा पड़ा सोशल मीडिया का दुरूपयोग करना, आरोपी को गुजरात से दबोच लाई फरीदाबाद पुलिस

faridabad-police-arrested-1-accused-from-gujrat-misused-social-media

फरीदाबाद- डीसीपी सेन्ट्रल मुकेश मल्होत्रा द्वारा महिला विरुद्ध अपराध में संलिप्त आरोपियों की धर-पकड़ के दिए गए दिशा निर्देश पर कार्रवाई करते हुए महिला थाना सैन्ट्रल प्रभारी गीता की टीम ने सोशल मीडाया पर फेक आईडी बनाकर महिला की फोटो वायरल करने वाले आरोपी प्रवीण कुमार उर्फ नरेश कुमार(40 वर्ष) को गिरफ्तार किया है।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी प्रवीण उत्तराखंड के उधम सिंह जिले के गांव चकरपुर का रहने वाला है। महिला थाना में आरोपी के खिलाफ 9 मार्च को सोशल मीडिया पर फेक आईडी बनाकर फोटो वायरल करने की शिकायत मिली थी। जिसपर आईटी एक्ट में मुकदमा दर्ज कर आरोपी की तलाश की जा रही थी। पुलिस टीम ने अपने सूत्रों से गुजरात के द्वारकाधीश का पता लगा। जिसपर महिला थाना प्रबन्धक ने अपने नेतृत्व में ASI अजय सिंह ,HC कविता, सिपाही नरेश,जयवीर की टीम नियुक्त कर गुजरात के द्वारकाधीश में रेड की जहां से आरोपी को काबू कर फरीदाबाद लाया गया। आरोपी गुजरात के एक होटल में वेटर का काम करता है। 

आरोपी से पूछताछ में पता चला की आरोपी की पीडित से पहंचान इंस्टाग्राम से हुई थी। आरोपी ने इंस्टाग्राम से फोटो ली थी। आरोपी ने MX TAKATAK पर 3 फेक आई डी बनाकर अश्लील कमेंट कर पीडिता का फोन नम्बर बात करने के लिए वायरल कर दिया था।  आरोपी को पूछताछ के बाद अदालत में पेश कर जेल भेज दिया है। 

फरीदाबाद में महिला भी बनी नशे की सौदागर, क्राइम ब्रांच ने किया गिरफ्तार

crime-branch-arrested-lady-ganja-smuggler-in-faridabad

फरीदाबाद- डीसीपी क्राइम नरेंद्र कादयान के द्वारा अपराध में संलिप्त आरोपियों की धर-पकड़ के दिए गए दिशा-निर्देश पर कार्रवाई करते हुए क्राइम ब्रांच बदरपुर बॉर्डर प्रभारी इंस्पेक्टर सिटी मलिक की टीम ने एक अवैध नशा तस्कर महिला आरोपी को गिरफ्तार किया है।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि गिरफ्तार महिला आरोपी अनीता फरीदाबाद की सेक्टर 58 की राजीव कॉलोनी की रहने वाली है। क्राइम ब्रांच टीम ने आरोपी महिला को अपने सूत्रों से प्राप्त सूचना से थाना सेक्टर 58 के क्षेत्र से गांजा बेचते हुए काबू किया है। आरोपी महिला से मौके पर 600 ग्राम गांजा बरामद किया गया है। आरोपी महिला के खिलाफ थाना सेक्टर 58 अवैध नशा तस्करी की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

आरोपी महिला से पूछताछ में सामने आया कि महिला ने गांजा बेचने का काम पैसा कमाने के लालच में शुरू किया है। उसने किसी अनजान व्यक्ति से समयपुर रोड से ₹3000 में गांजा खरीदा था। जिसको पुड़िया बनाकर बेच रही थी। आरोपी महिला को पूछताछ के बाद अदालत में पेश कर जेल भेज दिया गया है।

फरीदाबाद में NCB ने नशे के खिलाफ लोगों को किया जागरूक, नशा छोड़ने वाले इस नंबर पर करें कॉल

ncb-made-people-aware-against-drugs-in-faridabad

फरीदाबाद. हरियाणा राज्य नारकोटिक्स कण्ट्रोल ब्यूरो प्रमुख, अम्बाला मंडल के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक एवं प्रयास हरियाणा के संस्थापक भारतीय पुलिस सेवा के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी श्रीकांत जाधव साहब के दिशानिर्देशों से समस्त हरियाणा को नशा मुक्त करने के लिए हरियाणा सरकार द्वारा बागडोर सौंपी गई है. हरियाणा राज्य में वर्ष 2020 में हरियाणा पुलिस के अधिकारीयों और कर्मचारियों को लेकर हरियाणा को नशा मुक्त करने के लिए एनसीबी हरियाणा का गठन किया गया था जिसके सर्वप्रथम सर्वोच्च अधिकारी श्रीकांत जाधव साहब को नियुक्त किया गया है. उनके मार्गदर्शन और दिशानिर्देशों से हरियाणा के सभी क्षेत्रों में एनसीबी के अधिकारी और कर्मचारी प्रतिदिन नशे का व्यापार करने वाले व्यक्तियों को सलाखों के पीछे भेज रहे हैं तो दूसरी और जागरूकता के माध्यम से लोगों को और विशेष रूप से युवाओं और छात्रों को नशे से दूर रहने के लिए जागरूक किया जा रहा है. 

आज हरियाणा राज्य स्वापक नियंत्रण ब्यूरो के जागरूकता कार्यक्रम एवं पुनर्वास प्रभारी उप निरीक्षक डॉ. अशोक कुमार वर्मा फरीदाबाद के रेलवे स्टेशन पर जागरूकता के लिए पहुंचे और रेलवे सुरक्षा बल की उप निरीक्षक अनीता सेजवार एवं राजकीय रेलवे पुलिस के सदस्यों के साथ लोगों को नशे से दूर रहने के लिए जागरूक किया. 

डॉ. अशोक कुमार वर्मा ने यात्रियों को एकत्रित करके उन्हें नशे के दुष्प्रभावों से परिचित कराते हुए कहा कि आज समय की आवश्यकता है कि नशे की बढ़ रही प्रवृति पर अंकुश लगाया जाए. सबसे भयंकर नशे अफीम, चरस, चिट्टा, स्मैक, गांजा, चुरा पोस्त, नशे के टीके और नशे की गोलियां आदि हैं जिनसे हमे दूर रहने की आवश्यकता है. उन्होंने ब्यूरो के हेल्पलाइन नंबर 9050891508 का वर्णन करते हुए कहा कि यह हेल्पलाइन समस्त हरियाणा के लिए है. कोई भी व्यक्ति ऐसे व्यक्ति की गुप्त सुचना इस पर निर्भीक होकर दे सकता है और नशा छोड़ने वाले भी इस पर सम्पर्क कर लाभ उठा सकते हैं. उन्होंने एकत्रित समूह से हाथ उठवाकर वचन लिया कि वे जीवन में किसी भी प्रकार का नशा नहीं करेंगे और अन्य लोगों को भी नशा न करने के लिए जागरूक करेंगे. इस अवसर पर उप निरीक्षक राजेंद्र कुमार सहित अनेक कर्मचारी और यात्रीगण उपस्थित रहे.


काम की तलाश में कर्नाटक गया युवक कुछ ऐसा सामान खरीदकर लाया कि क्राइम ब्रांच ने धर दबोचा

crime-branch-arrested-1-accused

फरीदाबाद-डीसीपी क्राइम नरेंद्र कादयान के द्वारा शहर में अपराध में संलिप्त आरोपियों की धर-पकड़ के दिए गए दिशा-निर्देशों पर कार्रवाही करते हुए क्राइम ब्रांच सेक्टर 56 प्रभारी इंस्पेक्टर राकेश कुमार की टीम ने एक अवैध हथियार रखने वाले आरोपी को गिरफ्तार किया है। पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि आरोपी विशाल त्रिपाठी उर्फ विपुल है। 

आरोपी मूल रूप से उत्तर प्रदेश के जिला सिद्धार्थ नगर के गांव  बुढ़िया टायर का जो फरीदाबाद के आदर्श नगर में किराए पर रहने वाला है। क्राइम ब्रांच टीम ने आरोपी को अपने सूत्रों से प्राप्त सूचना के आधार पर  थाना सेक्टर 58 के क्षेत्र से काबू किया है। आरोपी की तलाशी लेने पर आरोपी से बंटनदार चाकू बरामद हुआ है। आरोपी के खिलाफ थाना सेक्टर 58 में अवैध हथियार रखने की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

आरोपी से पूछताछ में सामने आया कि आरोपी कुछ समय पहले कर्नाटक में काम की तलाश में गया था। वह सुनिल नाम के अनजान व्यक्ति से 500/-₹ में बंटनदार चाकू खरीद कर लाया था। आरोपी इसे राहगीरों को लूटने के लिए इस्तेमाल करने के लिए लाया था। आरोपी को पूछताछ के बाद अदालत में पेश कर जेल भेज दिया गया है।

क्राइम ब्रांच के हत्थे चढ़ा अवैध शराब का सौदागर, भारी मात्रा में शराब बरामद

crime-branch-arrested-1-wine-smuggler

फरीदाबाद- डीसीपी क्राइम नरेन्द्र कादयान द्वारा शहर को नशा मुक्त बनाने के अभियान के तहत नशा तस्करी में संलिप्त आरोपियों की जल्द से जल्द धरपकड़ के दिशा निर्देश के तहत कार्रवाई करते हुए क्राइम ब्रांच 30 प्रभारी इंस्पेक्टर रविंदर की टीम ने अवैध शराब तस्करी के मुकदमे में एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपी का नाम पवन है जो फरीदाबाद का रहने वाला है। 

दिनांक 9 जुलाई को क्राइम ब्रांच की टीम पुलिस थाना डबुआ एरिया में गश्त कर रही थी कि गुप्त सूत्रों से सूचना प्राप्त हुए की आरोपी गाड़ी में अवैध शराब भरकर गुड़गांव से फरीदाबाद आ रहा है। सूचना पर तुरंत कार्रवाई करते हुए क्राइम ब्रांच की टीम ने सैनिक कॉलोनी के पास नाका लगाकर गाड़ियों की चेकिंग शुरू की। कुछ समय पश्चात आरोपी गाड़ी लेकर उधर आया जिसने पुलिस पार्टी को देख कर गाड़ी को पहले ही रोक दिया और गाड़ी छोड़कर मौके से फरार हो गया। 

पुलिस ने गाड़ी में रखे अवैध शराब सहित पिकअप को पुलिस कब्जे में ले लिया। गाड़ी में अंग्रेजी शराब की 105 पेटी बरामद की गई जिसमें अंग्रेजी शराब जेनसन की 28, बैलेंटाइंस की 22,वोडका की 20, जेबी की 10, चिवास की 9, गोल्ड लेबल रिजर्व की 9 तथा द ग्लेनलिवेट की 7 पेटी शामिल थी। अवैध शराब को पुलिस कब्जे में लेकर पुलिस थाना डबरा में आरोपी के खिलाफ एक्साइज एक्ट की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया जिसके पश्चात आरोपी की तलाश शुरू की गई। क्राइम ब्रांच की टीम ने मामले में आगे कार्रवाई करते हुए आरोपी चालक पवन को कल पुलिस जांच में शामिल करते हुए गिरफ्तार कर लिया। 

पुलिस पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह ड्राइवरी का काम करता है और गुड़गांव के मांडी बॉर्डर से शराब लेकर नीलम चौक पर जा रहा था कि पुलिस ने उसे बीच में जब्त कर लिया। पुलिस पूछताछ होने के पश्चात आरोपी को अदालत में पेश करके जेल भेज दिया गया है तथा आरोपी को शराब सप्लाई करने वाले उसके साथी तथा ठेकेदार की धरपकड़ करके उसे भी जल्द गिरफ्तार किया जाएगा।

राहुल भाटी हत्याकांड: पुलिस को मिले अहम सुराग, आरोपियों की तलाश में जुटी क्राइम ब्रांच की 5 टीमें

rahul-bhati-murder-case-investigate-crime-branch-5-team

फरीदाबाद: सुबह करीब 6:30 बजे छान्यसा में राहुल नाम के युवक की हत्या कार सवार आरोपियों ने गोली मारकर हत्या कर दी और मौके से फरार हो गए थे मृतक युवक राहुल की मामा की शिकायत पर थाना क्षेत्र में हत्या की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज करके आरोपियों की तलाश में क्राइम ब्रांच की टीम में लगी हुई है.

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि छान्यसा गांव का रहने वाला दो बच्चों का पिता ,26 वर्षीय राहुल, सुबह करीब 6:30 बजे अपने घर के पास वाले प्लॉट में दातुन कर रहा था। उसके साथ उसके दो भतीजे योगेश तथा ललित भी उसके साथ मौजूद थे। इसी दौरान पोलो गाड़ी में सवार होकर चार नकाबपोश व्यक्ति आए जिन्होंने अपना मुंह कपड़े से ढक रखा था। गाड़ी से 3 आरोपी नीचे उतरे जिन्होंने राहुल को गोली मारी जिससे वह घायल हो गया। घायल होने के पश्चात जब राहुल नीचे गिर गया तो आरोपियों ने उसके ऊपर फिर से 2/3 गोलियां चलाई जिससे राहुल की मौके पर ही मृत्यु हो गई। 

सूचना मिलते ही डीसीपी क्राइम नरेंद्र कादियान, एसीपी क्राइम सुरेंद्र श्योराण, थाना प्रभारी इंस्पेक्टर सुरेंद्र तथा क्राइम ब्रांच डीएलएफ, ऊंचा गांव सेक्टर 56, सेक्टर 65, एफएसएल टीम से डॉ मनीषा मौके पर पहुंचे जिन्होंने मौका मुआयना करके घटनास्थल से अहम साक्ष्य एकत्रित किए तथा मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए बीके अस्पताल में भर्ती करवा दिया।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि मृतक राहुल के माता-पिता वैष्णो देवी यात्रा पर गए हुए आरोपियों के खिलाफ मृतक के मामा के द्वारा दी गई शिकायत पर मुकदमा दर्ज किया गया है क्राइम ब्रांच की टीमें सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है। उन्होंने बताया कि मामले की जांच हर एंगल से की जा रही है और इसमें शामिल अपराधियों को बक्शा नहीं जाएगा। 

पुलिस आयुक्त महोदय विकास अरोड़ा द्वारा राहुल हत्याकांड में आरोपियों को जल्द पकड़ने के निर्देश दिए गए थे, डीसीपी क्राइम के मार्गदर्शन एवं एसीपी क्राइम के नेतृत्व में  क्राइम ब्रांच की 5 टीम द्वारा आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए अलग-अलग जगह पर रेड डाली जा रही थी, अभी पुलिस को बहुत ही अहम सुराग मिले हैं हत्याकांड में संलिप्त आरोपियों के बारे में जल्द खुलासा किया जाएगा।

प्यार के जाल में फंसाकर व्यापारी को फरीदाबाद बुलाकर बनाया बंधक, पुलिस ने फेरा प्लान पर पानी

honeytrap-case-in-faridabad

फरीदाबाद- डीसीपी क्राइम नरेंद्र कादयान के दिशा निर्देश के तहत कार्रवाई करते हुए क्राइम ब्रांच सेक्टर 17 प्रभारी अशोक कुमार की टीम ने आरोपियों द्वारा एक व्यक्ति को बंधक बनाकर फिरौती मांगने के मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपियों में बड़खल के रहने वाले दानिश व दानिश की पत्नी वरीसा तथा राजकुमारी पत्नी संतोष का नाम शामिल है। 

आरोपियों ने अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर रेवाड़ी के रहने वाले भैंस व्यापारी मुरारीलाल को फरीदाबाद में बंधक बनाकर उसके परिजनों से फिरौती की मांग की थी। इस मामले का मुख्य आरोपी एहसान निवासी घासेड़ा मुरारीलाल से एक दो बार भैंस खरीद कर लाया था तो उसने देखा कि मुरारी लाल के पास काफी पैसे हैं तो उसने मुरारीलाल को बंधक बनाकर फिरौती मनाने मांगने की योजना बनाई। योजना के तहत आरोपी एहसान ने अपनी गैंग में शामिल आरोपित महिला राजवती को मुरारी लाल का मोबाइल नंबर देकर उसे अपने प्यार के जाल में फसाने के लिए कहा जिसके पश्चात राजवती ने मुरारीलाल को फोन करके मीठी मीठी बातें की ओर उसे अपने प्यार के जाल में फंसा लिया। 

दिनांक 18 जुलाई को राजवती ने मुरारीलाल को मिलने के लिए फरीदाबाद बुलाया और जब मुरारी लाल फरीदाबाद पहुंचा तो वहां पर आरोपियों के अन्य साथी आ गए जिन्होंने मुरारी लाल को बंधक बनाकर फरीदाबाद के सेक्टर 18 में अपने किराए के कमरे में बंधक बना लिया। अगले दिन आरोपियों ने मुरारीलाल से उसके भाई राकेश के पास फोन करवाया और उसे किसी काम के लिए कुछ पैसे लेकर फरीदाबाद आने के लिए कहा। जब राकेश पैसे लेकर फरीदाबाद पहुंचा तो आरोपियों ने राकेश को फिर से फोन किया और उससे ₹30000 की फिरौती मांगी। 

आरोपियों ने मुरारीलाल के भाई को धमकी दी कि यदि वह पैसे लेकर नहीं आया तो वह मुरारीलाल को जान से मार देंगे। राकेश ने इसकी सूचना पुलिस चौकी सेक्टर 16 में दी जिसके आधार पर आरोपियों के खिलाफ षड्यंत्र रचने तथा फिरौती मांगने की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज करके मामले की जांच शुरू की गई। मामले में शामिल आरोपी दानिश मुरारी लाल का मोबाइल लेकर बाहर आ गया और उसने राकेश को फोन किया और कहा कि तुम सेक्टर 16 में आ जाओ मैं वहां से तुम्हें मुरारीलाल के पास ले चलूंगा। क्राइम ब्रांच की टीम राकेश के साथ चल दी और जब राकेश दानिश के पास पहुंचा तो क्राइम ब्रांच की टीम ने उसे काबू कर लिया। 

इसके पश्चात क्राइम ब्रांच की टीम दानिश को लेकर सेक्टर 18 में स्थित उनके किराए के कमरे पर पहुंची। पुलिस को देख कर आरोपी एहसान तथा राजवती मौके से फरार हो गए। पुलिस ने जब कमरे पर जाकर देखा तो कमरे का दरवाजा बाहर से बंद था। पुलिस ने दरवाजा खोला तो उसके अंदर आरोपी महिला वरीशा तथा राजकुमारी मुरारीलाल को बंधक बनाकर बैठी हुई थी। क्राइम ब्रांच की टीम ने मुरारी लाल को आजाद करवाया और दोनों महिलाओं को काबू कर लिया। 

आरोपियों को अदालत में पेश किया गया जहां से दोनों आरोपी महिलाओं को जेल भेज दिया गया तथा आरोपी दानिश को 1 दिन के रिमांड पर लेकर पूछताछ की गई जिसमें सामने आया कि आरोपी एहसान की योजना के मुताबिक राजवती ने मुरारीलाल को फरीदाबाद बुलाया था। जब मुरारी लाल राजवती के पास पहुंचा तो सभी आरोपियों ने मिलकर उसे बंधक बना लिया और उसे फिरौती की मांग की थी परंतु पुलिस ने उनके प्लान पर पानी फेर दिया। पुलिस पूछताछ पूरी होने के पश्चात आरोपी को अदालत में पेश करके जेल भेज दिया गया है वही वारदात में शामिल आरोपी एहसान तथा महिला आरोपी राजवती को जल्दी गिरफ्तार किया जाएगा।

नोटों की गड्डियों के साथ पकड़े गए ये क्रिमिनल कौन हैं, जानिए पूरा मामला

crime-branch-nit-arrested-sunar-with-note

फरीदाबाद- पुलिस आयुक्त विकास अरोड़ा के दिशा निर्देश एवं डीसीपी क्राइम नरेन्द्र कादयान के मार्गदर्शन और एसीपी क्राइम सुरेंद्र स्योराण के नेतृत्व में कार्रवाई करते हुए क्राइम ब्रांच एनआईटी प्रभारी नरेन्द्र कुमार की टीम ने असली के नाम पर नकली सोने के सिक्के बेचने के मुकदमे में सोने के नकली सिक्के बनाने वाले आरोपी सुनार को गिरफ्तार किया है।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपी सुनार का नाम अर्पित है जो आगरा का रहने वाला है। क्राइम ब्रांच द्वारा इससे पहले गिरफ्तार किए गए पांचों आरोपी एक ही परिवार के है जिसमे आरोपी पन्ना लाला और उसकी पत्नी रमा तथा पुत्र धर्मेन्द्र, राजन व नितिन का नाम शामिल है। आरोपियों ने फरीदाबाद में 2 डॉक्टर के साथ असली के नाम पर नकली सिक्के बेचकर 80 लाख रुपए की धोखाधड़ी की वारदात को अंजाम दिया था जिसमें आरोपियों ने ग्रीन फील्ड के रहने वाले डॉक्टर निशांत तथा सेक्टर 31 के रहने वाले डॉक्टर निखिल को अपना निशाना बनाया था।

दिनांक 28 जून 2022 को फरीदाबाद की ग्रीन फील्ड कॉलोनी के रहने वाले डॉक्टर निशांत ने पुलिस को दी अपनी शिकायत में बताया कि वह एक एमबीबीएस डॉक्टर हैं और ग्रीन फील्ड कॉलोनी में अपना क्लीनिक चलाते हैं। दिनांक 8 फरवरी 2022 को एक व्यक्ति अपने परिवार के साथ इलाज के लिए उनके पास आया था। इलाज के दौरान उसके परिजनों ने बताया कि उन्हें पैसों की सख्त जरूरत है और वह पैसों के बदले उन्हें सोने के सिक्के दे सकते हैं जो उनके पुरखों को खेत में खुदाई के वक्त मिले थे। 

आरोपियों ने कम पैसों में ज्यादा सोने के सिक्के देने का लालच दिया और सैंपल के तौर पर पीड़ित डॉक्टर को कुछ सिक्के दे दिए जिसे सुनार से चेक करवाने पर वह सोने के सिक्के असली पाए गए जिससे पीड़ित को ठगों पर विश्वास हो गया। इसके लगभग 20 दिन पश्चात आरोपियों की पीड़ित से फिर बातचीत हुई और जब उन्होंने पीड़ित को सिक्के खरीदने के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि उनके पास करीब 40 लाख रुपए का इंतजाम है और वह इससे सोने के सिक्के खरीद लेंगे। इसके पश्चात दिनांक 2 मार्च 2022 को पीड़ित डॉक्टर को आरोपियों ने पैसे लेकर नोएडा बुलाया और 40 लाख रुपए लेकर उसके बदले में उन्हें 01 किलोग्राम सोने के सिक्के दे दिए। डॉक्टर ने जब सुनार के पास पहुंचकर सिक्कों की जांच करवाई तो पता चला कि सारे सिक्के नकली है। 

आरोपियों ने इसी प्रकार डॉक्टर निखिल को अपना शिकार बनाया और उसे तुगलकाबाद मेट्रो स्टेशन पर बुलाकर उसे भी सोने के नकली सिक्के देकर उससे 40 लाख रुपए की धोखाधड़ी की वारदात को अंजाम दिया। पीड़ित ने इसके पश्चात काफी समय तक आरोपियों की अपने तौर पर तलाश की परंतु जब उनका कोई सुराग नहीं लगा तो पीड़ित निशांत ने 28 जून को पुलिस थाना सूरजकुंड तथा पीड़ित निखिल ने 16 जुलाई 2022 को इसकी शिकायत पुलिस थाना सेक्टर 31 में दी जिसके आधार पर थाने में आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज करके उनकी तलाश शुरू की गई। 

पुलिस आयुक्त विकास कुमार अरोड़ा ने मामले में जल्द से जल्द आरोपियों की धरपकड़ के निर्देश दिए जिसके पश्चात पुलिस उपायुक्त नरेंद्र कादयान के मार्गदर्शन में क्राइम ब्रांच प्रभारी नरेंद्र कुमार की अगुवाई में पुलिस टीम का गठन किया गया। पुलिस जांच के दौरान क्राइम ब्रांच एनआईटी ने गुप्त सूत्रों, सीसीटीवी फुटेज तथा तकनीकी के माध्यम से मामले में शामिल पांच आरोपियों को दिनांक 14 जुलाई को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों को अदालत में पेश किया गया जहां से आरोपी पन्नालाल तथा उसके बेटे धर्मेंद्र को 5 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया तथा बाकी अन्य आरोपियों को जेल भेज दिया गया है। प्राथमिक पूछताछ में सामने आया कि यह परिवार लगभग 20 वर्ष से अलग-अलग राज्यों में इसी प्रकार की वारदातों को अंजाम दे रहा है जिसकी जांच की जा रही है। 

आरोपियों ने फरीदाबाद के डॉक्टर निखिल के साथ की गई धोखाधड़ी की वारदात के बारे में पुलिस को जानकारी दी जिसके पश्चात आरोपियों के कब्जे से नकली सोने के सिक्के और नकदी बरामद की गई। आरोपियों की निशानदेही पर नकली सोने के सिक्के बनाने वाले आरोपी सुनार अर्पित को 18 जुलाई को गिरफ्तार किया गया। आरोपी को अदालत में पेश करके 1 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया जिसमें पुलिस रिमांड के दौरान पूछताछ में सामने आया कि आरोपी सुनार का पिता आरोपी पन्नालाल का दोस्त था जिससे पन्ना लाल आभूषण बनाता था। वर्ष 2012 में आरोपी सुनार के पिता की मृत्यु हो गई जिसके पश्चात उसका कामकाज अर्पित संभालने लगा। आरोपी पन्नालाल ने अर्पित को अपने साथ धोखाधड़ी के धंधे में शामिल कर लिया और उससे नकली सोने के सिक्के बनवाने लगा। आरोपियों के कब्जे से अब तक 17.700 किलोग्राम नकली सोने के सिक्के, सिक्के बनाने की मशीन, 21 मोबाइल फोन सहित 51 लाख रु नकद बरामद किए गए हैं। पूछताछ पूरी होने के पश्चात सभी आरोपियों को अदालत में पेश करके जेल भेज दिया गया है।

साइबर थाना सेंट्रल ने 5 ठगों को किया गिरफ्तार, क्रेडिट कार्ड यूज करने वालों से करते थे ठगी

cyber-thana-central-arrested-5-accused

फरीदाबाद- पुलिस उपायुक्त मुख्यालय नीतीश कुमार अग्रवाल द्वारा साइबर ठगी की वारदातों में आरोपियों की जल्द से जल्द धरपकड़ के दिशा निर्देश के तहत कार्रवाई करते हुए साइबर थाना सेंट्रल की टीम ने साइबर ठगी के मामले में 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपियों में योगेश, अंशु, यश, विकास तथा मोहम्मद कैफ का नाम शामिल है। आरोपी योगेश, यश, विकास तथा मोहम्मद कैफ दिल्ली में रह रहे थे वहीं आरोपी अंशु यूपी के फैजाबाद जिले का निवासी है। 

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि आजकल के आधुनिक युग में अपनी मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए आमजन क्रेडिट कार्ड पर बहुत अधिक निर्भर होते जा रहे हैं और क्रेडिट कार्ड से संबंधित सभी सुविधाएं वह ऑनलाइन माध्यम से घर बैठे प्राप्त कर सकते हैं। परंतु कुछ ठग प्रवृत्ति के लोग इसका फायदा उठाकर भोले भाले नागरिकों को साइबर ठगी का शिकार बनाते हैं और ऑनलाइन माध्यम से साइबर ठगी की वारदातों को अंजाम देते हैं। इसी प्रकार साइबर ठगी की वारदातों को अंजाम देते हुए आरोपियों ने फरीदाबाद के रहने वाले राघवेंद्र को झांसा देकर उसके साथ करीब 30 हजार रुपए की धोखाधड़ी की वारदात को अंजाम दिया था। 

आरोपी एसबीआई क्रेडिट कार्ड उपभोक्ताओं को अपना निशाना बनाते हैं और एसबीआई क्रेडिट कार्ड धारकों को फोन करके उनके क्रेडिट कार्ड की लिमिट बढ़ाने या किसी अन्य बहाने से फोन करके उन्हें एक लिंक भेजते हैं। लिंक पर क्लिक करने पर एक वेबसाइट खुलती है जो हूबहू एसबीआई क्रेडिट कार्ड जैसी दिखाई देती थी जिसमें आरोपी क्रेडिट कार्ड धारक से उसके क्रेडिट कार्ड की जानकारी भरवा लेते हैं जिसके पश्चात आरोपी क्रेडिट कार्ड की राशि को फर्जी बैंक खाते में ट्रांसफर कर लेते हैं। 

फरीदाबाद निवासी के साथ की गई ठगी के मामले में साइबर पुलिस स्टेशन सेंट्रल में आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी के वारदात की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज करके मामले की जांच शुरू की गई। पुलिस टीम में आगे की कार्रवाई करते हुए इस मामले में शामिल आरोपी योगेश, विकास, यश तथा अंशु को दिनांक 12 जुलाई को फरीदाबाद से तथा आरोपी मोहम्मद कैफ को 13 जुलाई को दिल्ली से गिरफ्तार करके पुलिस रिमांड पर लिया। 

आरोपियों के कब्जे से सिमकार्ड सहित 28 मोबाइल, 1 लैपटॉप, 6 डेबिट कार्ड तथा 1.07 लाख रुपए नकद बरामद किए गए हैं। पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वह क्रेडिट कार्ड धारकों के क्रेडिट कार्ड की जानकारी लेकर उसको ऑनलाइन वॉलेट के माध्यम से फर्जी खातों में ट्रांसफर कर लेते थे। आरोपी योगेश साइबर ठगी की इन वारदातों का मुख्य आरोपी है जो दिल्ली में जनकपुरी में अपना कॉल सेंटर चलाता था जिसमें आरोपी विकास तथा यश क्रेडिट कार्डधारकों को कॉल करते थे। आरोपी अंशु एसबीआई क्रेडिट कार्ड की फर्जी वेबसाइट बनाता था और आरोपी कैफ इन्हें फर्जी बैंक खाते उपलब्ध करवाता था। पुलिस रिमांड पूरा होने के पश्चात सभी आरोपियों को दिनांक 17 जुलाई को अदालत में दोबारा पेश करके जेल भेज दिया गया है।

दुःखद खबर: खनन माफियाओं ने चढ़ाया DSP पर डम्पर, मौके पर ही हुई DSP की मृत्यु

tauru-dsp-surender-singh-bishnoi-death-news-in-hindi

हरियाणा के तावडू से एक दुःखद खबर सामने आ रही है, मिली जानकारी के मुताबिक, एक पुलिस अधिकारी की डम्पर से कुचलकर ह्त्या कर दी गई, बताया जा रहा है कि खनन माफियाओं ने डीएसपी सुरेंद्र सिंह बिश्नोई की जान ले ली. तावडू में पचगांव के पास डीएसपी सुरेंद्र सिंह पर खनन माफियाओं ने डम्पर चढ़ा दिया, मौके पर ही उनकी मृत्यु हो गई, डीएसपी की ह्त्या से पुलिस महकमें में हड़कंप मच गया है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, तावडू के डीएसपी सुरेंद्र सिंह बिश्नोई तावडू की पहाड़ी में अवैध खनन की सूचना मिलने के बाद छापा मारने गए थे, इस दौरान उन्होंने पत्थर से भरे डम्फर को रोकने का प्रयास किया तो माफियाओं ने उनके ऊपर ही डम्पर चढ़ा दिया और मौके पर ही डीएसपी की मृत्यु हो गई. आईजी और एसएसपी घटनास्थल पर मौजूद हैं.

ऑपरेशन आक्रमण: फरीदाबाद पुलिस ने 8 आरोपियों को किया गिरफ्तार, जानिए कहाँ के हैं ये आरोपी

faridabad-police-arrested-8-accused

फरीदाबाद: पुलिस महानिदेशक मुख्यालय द्वारा 18 जुलाई को पूरे हरियाणा में अपराधियों को पकड़ने के लिए ऑपरेशन आक्रमण चला गया था जिसमें पुलिस आयुक्त विकास कुमार अरोड़ा के निर्देशानुसार 32 पुलिस टीमों का गठन किया गया था जिसमें 4 टीम पुलिस उपायुक्त, 8 टीम सहायक पुलिस आयुक्त 8 टीम थाना प्रभारियों तथा 12 टीम क्राइम ब्रांच प्रभारियों की अगुवाई में कार्यरत थी।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि अपराधियों को पकड़ने के लिए चलाए गए आक्रमण अभियान का उद्देश्य अपराधियों को सलाखों के पीछे भेजकर आमजन में सुरक्षा तथा पुलिस व कानून व्यवस्था के प्रति विश्वास को स्दृढ़ करना है।

ऑपरेशन आक्रमण के तहत की गई पुलिस कार्रवाई फरीदाबाद में 37 विभिन्न स्थानों पर रेड डाली गई जिसमे 21 मुकदमे दर्ज करके 21 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया जिसमे अवैध हथियार अधिनियम के तहत 10, एनडीपीएस एक्ट के 10 तथा एक्साइज का 1 मुकदमा शमिल है। गिरफ्तार किए गए 21 आरोपियों के कब्जे से 5 देसी कट्टे, 3 कारतूस, 5 चाकू, 4.938 किलोग्राम गांजा 4.81 मिलीग्राम स्मैक तथा देसी शराब की 4 पेटियां बरामद की गई है।

इसके अलावा पुलिस द्वारा 13 पीओ/बेल जंपर को भी काबू किया गया। पुलिस द्वारा फरीदाबाद की नीमका जेल में भी सर्च अभियान चलाया गया जिसमें किसी भी प्रकार की अव्यवस्था नहीं पाई गई।

फरीदाबाद पुलिस द्वारा चलाए गए इस अभियान में जघन्य अपराधों के 6 मुकदमों में 8 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है जिसमें बल्लभगढ़ की शारदा कॉलोनी के रहने वाले निरंजन, नवादा गांव निवासी अमित कुमार उर्फ कालू, एसी नगर के रहने वाले मोनिस, मोहना गांव निवासी सुनील, पलवल के महेश तथा नूंह के आसिफ, राजेंद्र व राजवीर का नाम शामिल है। 

अवैध हथियार लेकर क्राइम करने की फ़िराक में था गैंडा, पुलिस ने धर दबोचा

faridabad-police-arrested-accused-gainda

फरीदाबाद: डीसीपी क्राइम नरेंद्र कादयान के दिशा निर्देश के तहत कार्रवाई करते हुए क्राइम ब्रांच 56 प्रभारी राकेश कुमार की टीम ने अवैध हथियार के मुकदमे में एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपी का नाम जाहिद उर्फ गैंडा है जो बल्लभगढ़ की लक्ष्मण कॉलोनी का रहने वाला है। 

आरोपी के खिलाफ क्राइम ब्रांच की टीम पुलिस थाना सेक्टर 58 एरिया में गश्त कर रही थी कि गुप्त सूत्रों से सूचना प्राप्त हुई कि आरोपी देसी कट्टे सहित समयपुर चुंगी मस्जिद के सामने पड़े खाली प्लाट में किसी का इंतजार कर रहा है और वह किसी अपराध को अंजाम देने की फिराक में है। सूचना पर तुरंत कार्रवाई करते हुए क्राइम ब्रांच की टीम मौके पर पहुंची और आरोपी को काबू कर लिया। तलाशी लेने पर आरोपी के कब्जे से एक देसी कट्टा तथा एक जिंदा कारतूस बरामद किया गया। 

आरोपी को थाने लाकर उसके खिलाफ अवैध हथियार अधिनियम की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज करके पूछताछ की गई जिसमें आरोपी ने बताया कि उनका अपने पड़ोसी के साथ झगड़ा चल रहा है जिसके चलते वह कोसी से देसी कट्टा खरीद कर लाया था। आरोपी ने बताया कि उसके खिलाफ 2 महीने पहले पुलिस थाना आदर्श नगर में भी चोरी का मोबाइल खरीदने का एक मुकदमा दर्ज है। आरोपी को अदालत में पेश करके पुलिस रिमांड पर लिया गया है जिसमें आरोपी को कट्टा व मोबाइल बेचने वाले इसके साथियों के बारे में पूछताछ करके उसे गिरफ्तार किया जाएगा।

फरीदाबाद: अब सफर होगा महंगा, पाली क्रेशर जोन टोल टैक्स के रेट बढ़े, जाने क्या है नया रेट

Faridabad-Pali-Crusher-Zone-Toll-Tax-news-in-hindi

फरीदाबाद, 18 जुलाई। डीसी जितेन्द्र यादव ने कहा कि पाली क्रेशर जोन फरीदाबाद टोल टैक्स पर निर्धारित वाहनों के रेट लिस्ट में परिवर्तन किया गया है। उन्होंने कहा कि यह परिवर्तन हरियाणा सरकार द्वारा जारी गजट नोटिफिकेशन 2021 पाली क्रेशर जोन फरीदाबाद टोल टैक्स पर निर्धारित वाहनों के रेट लिस्ट वाहनों की किस्म के अनुसार किया गया है।  वाहनों की निर्धारित टोल टैक्स रेट लिस्ट है व हरियाणा सरकार द्वारा गजट नोटिफिकेशन प्रत्येक 3 साल में रेट लिस्ट में बढ़ोतरी की जाती है।

पीडब्ल्यूडी बी एंड आर विभाग से मिली जानकारी के अनुसार गुड़गांव से फरीदाबाद आने-जाने लिए लोगों को अब नए टोल रेट लागू किए जा रहे है। गुड़गांव-फरीदाबाद, सोहना-बल्लभगढ़, पाली क्रेशर रोड पर टोल की दरें सोमवार रात 12 बजे से बढ़ा दिए जाएंगे। इसी कड़ी में महीने के पास भी महंगे हो जाएंगे।

पीडब्ल्यूडी बीएंडआर विभाग से मिली जानकारी के अनुसार नए रेट के तहत कार चालकों को एक तरफ से 30 रुपये और आने-जाने के लिए 45 रुपये  का टोल टैक्स चुकाना होगा और 3 साल में टोल बढ़ाने का है नियम नए रेट के अनुसार, अब कार चालकों को एक तरफ के लिए 30 रुपये का भुगतान करना होगा। 24 घंटे के अंदर आने-जाने के लिए 45 रुपये चुकाने होंगे। इससे पहले कार का एक तरफ का 30 रुपये टोल लगता था और आने-जाने के लिए 40 रुपये का भुगतान करना होता था। बस, स्कूल बस के लिए 150 और आने-जाने के लिए 225 रुपये चुकाने होंगे। ट्रक 10 टायर तक लिए 280 और आने-जाने के लिए 420  रुपये चुकाने होंगे। ट्रैक्टर ट्रॉली के लिए 70 और आने-जाने के लिए 105 रुपये चुकाने होंगे। 

पीडब्ल्यूडी अधिकारियों ने बताया कि बीओटी की शर्तों के अनुसार 3 साल में टोल रेट बढ़ाने का प्रावधान है। तीन साल बाद 18 जुलाई से टोल की दरें बढ़ाई जा रही हैं। मंथली पास भी  महंगा हो गया है।

पर्सनल कार, जीप वैन के लिए एक महीने का पास अब 600 रुपये में बनेगा। कमर्शियल कार के मामले में एक महीने का कार्ड 900 रुपये में बनेगा। इसके अलावा ट्रक 10 टायर तक मंथली पास के लिए 8400, बस, स्कूल बस के लिए 4500 रुपये, ट्रैक्टर ट्रॉली के लिए 2100, लाइट कमर्शियल वाहन के लिए 3900 रुपये व मल्टी एक्सल अर्थ मूवर्स वाहन का महीने का पास बनवाने को 10,500 रुपये देने होंगे।

साईबर थाना NIT ने 5 ठगों को किया गिरफ्तार, 335 वारदातों को अंजाम देकर करोड़ों रूपये डकार चुके है

cyber-thana-nit-arrested-5-fraud-accused

फरीदाबाद- पुलिस आयुक्त विकास कुमार अरोड़ा द्वारा धोखाधड़ी व साइबर ठगी के मामलों में शामिल आरोपियों की जल्द से जल्द गिरफ्तारी के दिशा-निर्देश तहत कार्रवाई करते हुए साइबर थाना एनआईटी प्रभारी इंस्पेक्टर बसंत की टीम ने देशभर में ठगी की 335 वारदातों को अंजाम देने वाले गिरोह के 5 आरोपियों को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है। इस मामले में दो आरोपियों की गिरफ्तारी बकाया है जिनकी तलाश की जा रही है और उन्हें जल्द गिरफ्तार किया जाएगा।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपियों में मुतीब अहमद, मोहम्मद फैयाज, ललित, मोहम्मद फईम तथा शहबाज अहमद उर्फ गोलू का नाम शामिल है। आरोपी मोहम्मद फहीम तथा शहबाज अहमद उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं वहीं बाकी तीन आरोपी दिल्ली में रह रहे थे।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि कोई भी व्यक्ति अपनी शिक्षा, ज्ञान और मेहनत के अनुसार सरकारी या प्राइवेट नौकरी प्राप्त कर सकता है। किसी भी प्रतिष्ठित कंपनी में काम करना एक पढ़े लिखे व्यक्ति का सपना होता है जिसे पूरा करने के लिए वह जी तोड़ मेहनत करते हैं। नौकरी प्राप्त करने के लिए आजकल बहुत सारी ऑनलाइन वेबसाइट उपलब्ध है जिनपर व्यक्ति अपनी योग्यता के आधार पर नौकरी सर्च कर सकता है परंतु कुछ  ठग प्रवृत्ति के व्यक्ति इसका गलत फायदा उठाकर लोगों के साथ धोखाधड़ी की वारदात को अंजाम देते हैं। इसी प्रकार की धोखाधड़ी की वारदात को अंजाम देते हुए एक साइबर ठग गिरोह ने ऑनलाइन नौकरी तलाश की वेबसाइट shine.com का सहारा लेकर फरीदाबाद के रहने वाले एक व्यक्ति के साथ साइबर ठगी की वारदात को अंजाम दिया। 

दिनांक 24 जून 2022 को साइबर पुलिस थाना एनआईटी में धोखाधड़ी की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था जिसमें पीड़ित सुभाष ने बताया कि आरोपियों ने उसके साथ 6 लाख 80 हजार रुपए की धोखाधड़ी को अंजाम दिया है। पीड़ित की शिकायत के आधार पर थाने में मुकदमा दर्ज करके मामले की जांच शुरू की गई। 

पुलिस आयुक्त विकास कुमार अरोड़ा ने मामले में तुरंत संज्ञान लेते हुए आरोपियों की धरपकड़ के निर्देश दिए जिसके तहत डीसीपी एनआईटी नीतीश कुमार अग्रवाल के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी इंस्पेक्टर बसंत की अगुवाई में पुलिस टीम का गठन किया गया जिसमें उप निरीक्षक राजेश, सहायक उप निरीक्षक सत्यवीर, भूपेंद्र नरेंद्र व नीरज, महिला सिपाही प्रीति, सिपाही संदीप, अमित तथा अंशु का नाम शामिल था। साइबर थाना की टीम ने तकनीकी के माध्यम से मामले में शामिल पांच आरोपियों को उत्तर प्रदेश व दिल्ली एनसीआर एरिया से गिरफ्तार कर लिया। इस मामले में सबसे पहले आरोपी मुतीब तथा फैयाज को दिनांक 27 जून को दिल्ली के शाहदरा में स्थित एक कॉल सेंटर से गिरफ्तार करके 8 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया। जिसके पश्चात आरोपियों की निशानदेही पर 3 जुलाई को आरोपी फईम तथा शहबाज को गिरफ्तार करके 7 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया तथा अंतिम आरोपी ललित को दिनांक 9 जुलाई को गिरफ्तार किया गया। 

पुलिस रिमांड में पूछताछ के दौरान सामने आया कि आरोपी दिल्ली के शाहदरा में एक फर्जी कॉल सेंटर चलाते थे जिसमें shine.com वेबसाइट से नौकरी की तलाश कर रहे व्यक्ति की जानकारी एकत्रित करते थे और उस व्यक्ति से संपर्क करके उन्हें एयर एशिया कंपनी में एक बहुत अच्छे सैलरी पैकेज का लालच देकर देते थे जिससे व्यक्ति उनके झांसे में आ जाता था। इसके पश्चात फिल्मी अंदाज में नौकरी की तलाश कर रहे व्यक्ति का इंटरव्यू लिया जाता था जिसके पश्चात वह बताते थे कि उनका सिलेक्शन एयर एशिया के लिए हो चुका है और वह एयर एशिया का फर्जी ऑफर लेटर तैयार करके कुरियर के माध्यम से इसे व्यक्ति के घर पंहुचा देते थे। ऑफर लेटर मिलने के पश्चात जब व्यक्ति को यकीन हो जाता कि वह एयर एशिया कंपनी के लिए सेलेक्ट हो चुका है तो आरोपी उसे रजिस्ट्रेशन फीस, सिक्योरिटी चार्ज, मेडिकल चार्ज व ट्रेनिंग करवाने के नाम पर अलग-अलग बहानों से पैसे मांगते रहते थे और जब पैसा उनके खातों में ट्रांसफर हो जाता था तो अपना मोबाइल नंबर बंद कर लेते थे। 

पुलिस पूछताछ में सामने आया कि आरोपी मोहम्मद फईम इस वारदात का मुख्य आरोपी है जो कॉल सेंटर का मालिक है। आरोपी शहबाज तथा ललित द्वारा फर्जी बैंक खाता तथा सिम उपलब्ध करवाई जाती थी। आरोपी मुतीब तथा फैयाज कॉल सेंटर में कॉल, ईमेल तथा कंपनी का फर्जी अप्वाइंटमेंट लेटर भेजने का काम करते थे।

आरोपियों के कब्जे से वारदात में प्रयोग एक कंप्यूटर, एक लैपटॉप, दो मोबाइल, एक चेक बुक तथा 3 लाख 97 हजार रुपए बरामद किए गए हैं। आरोपियों द्वारा बरामद किए गए मोबाइल को ट्रेस करने पर सामने आया कि आरोपी देशभर में साइबर ठगी की 335 वारदातों को अंजाम दे चुके हैं जिसमें उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक 118, राजस्थान में 33, तेलंगाना में 33, गुजरात में 27, दिल्ली में 24 तथा केरला की 19 मुख्य वारदातें शामिल है। आरोपी हरियाणा में भी साइबर ठगी की 8 वारदातों को अंजाम दे चुके हैं। रिमांड पूरा होने के पश्चात आरोपी मुतीब तथा फैयाज को पहले ही जेल भेजा जा चुका था वहीं दिनांक 10 जुलाई को आरोपी फईम, शहबाज तथा ललित को अदालत में पेश करके जेल भेज दिया गया है।

चोरी-डकैती के जुर्म में पुलिस ने इन आरोपियों को किया गिरफ्तार, जानिए कौन हैं ये आरोपी

crime-branch-arrested-5-accused

फरीदाबाद- डीसीपी क्राइम नरेन्द्र कादयान के द्वारा शहर में अपराध पर अंकुश लगाने के लिए अपराध में संलिप्त आरोपियो की धर-पकड़ के दिए गए निर्देश पर कार्रवाई करते हुए क्राइम ब्रांच सेक्टर -48 प्रभारी सब इंस्पेक्टर राकेश सिंह की टीम ने 5 लूट, स्नैचिंग और चोरी की वारदातों को अंजाम देने वाले आरोपियों को गिरफ्तार किया है। 

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों में सूरज गौरव,रोहित मुकेश और हेमन्त का नाम शामिल है। आरोपी सूरज फरीदाबाद के सेक्टर-55 का तथा आरोपी हेमन्त फरीदाबाद के जीवन नगर का,आरोपी गौरव बल्लबगढ़ की चावला कॉलोनी का तथा रोहित व मुकेश संजय कॉलोनी का रहने वाला है। क्राइम ब्रांच टीम ने अपने सूत्रों से आरोपी सूरज को एनआईटी के बांके बिहारी चौक से देसी कट्टा व जिंदा रौंद सहित काबू किया है। आरोपी के खिलाफ थाना एनआईटी में अवैध हथियार की धाराओं में मुकदमा कर गिरफ्तार किया है। 

आरोपी सूरज ने पूछताछ में अन्य वारदात का खुलासा करते हुए वारदात में शामिल अपने साथी आरोपी हेमन्त का नाम बताया जिसको जीवन नगर गिरफ्तार किया है। आरोपी सूरज से एक जिन्दा रोंद के साथ देसी कट्टा बरादम हुआ है। आरोपी हेमन्त को पहले ही बन्द नीमाक जेल करा दिया था। पूछताछ के दौरान रेड कर आरोपी गौरव,रोहित व मुकेश को गिरफ्तार किया गया है। आरोपियों से लूट की एक कार सेक्टर 17 थाना इलाके से, एक चोरी की कार एनआईटी थाना एरिया से, एक कार लूट की कार थाना मुजेसर एरिया से ताथ एक लूट की कार पहले ही आरोपी इरफान बरामद कि जा चुकी है। तथा आरोपी सूरज से चोरी का सीएनजी सिलेंडर व लूटे के₹2000 नगद बरामद हुए हैं। 

आरोपियों से पूछताछ में थाना मुजेसर में 2, तथा 1-1 थाना एनआईटी, एसजीएम और सेक्टर-17 में लूट और स्नैचिंग की वारदात को अंजाम दिया है। आरोपियो पर पूर्व में भी लडाई-झगडे, स्नैचिंग, चोरी व अवैध हथियार के 5 मुकदमें दर्ज है। आरोपियो से मामलों में पूछताछ के लिए अदालत में पेश कर जेल भेज दिया गया है।  

पहले पैदल घूमकर करता था रेकी, फिर चुरा लेता था बाइक, क्राइम ब्रांच ने वाहन चोर को किया गिरफ्तार

crime-branch-arrested-bike-chor

फरीदाबाद- डीसीपी क्राइम नरेन्द्र कादयान के द्वारा शहर में अपराध पर अंकुश लगाने दिए गए दिशा निर्देश पर कार्रवाई करते हुए क्राइम ब्रांच सेन्ट्रल प्रभारी सुरेन्द्र सिंह की टीम ने अवैध हथियार सहित आरोपी को गिरफ्तार किया है। पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी जतीन उर्फ जय फरीदाबाद के एसजीएम नगर का रहने वाला है। क्राइम ब्रांच टीम ने आरोपी को अपने सूत्रों से प्राप्त सूचना पर थाना आदर्श नगर क्षेत्र से देशी पिस्तोल सहित काबू किया है। आरोपी के खिलाफ थाना आदर्श नगर में अवैध हथियार रखने की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

आरोपी से पूछताछ में सामने आया कि आरोपी पैदल घुमकर रेकी करता है। मौका देख कर दिन व रात में चोरी की वारदात को अंजाम देता है। आरोपी से थाना सेक्टर-7 के चोरी के मुकदमें का खुलासा हुआ जिसमें माननीय अदालत से 2 दिन का पुलिस रिमांड लिया गया। पुलिस रिमांड में आरोपी से अन्य 5 वारदातों का खुलासा हुआ जिसमें आरोपी से 5 मोटरसाइकिल बरामद की गई है। आऱोपी नशे करने के आदि है। आरोपी नशे की पूर्ती के लिए चोरी की वारदातों को अंजाम देता है। पूछताछ के बाद आरोपी को अदालत में पेश कर जेल भेज दिया गया है।